विरोध के बीच नगालैंड में AFSPA को 6 महीने के लिए बढ़ाया गया, गृह मंत्रालय ने जारी किया आदेश

Spread the love


नगालैंड में आर्म्ड फोर्स स्पेशल पावर एक्ट 1958 यानी AFSPA अभी लागू रहेगा। गृह मंत्रालय की तरफ से जारी एक आदेश में कहा गया है कि नगालैंड में यह कानून अभी अगले 6 महीनों तक के लिए आगे भी लागू रहेगा। इस कानून में सुरक्षा बलों को विशेष शक्तियां हासिल हैं। अभी कुछ समय पहले इस कानून का नगालैंड में विरोध हो रहा था और इसे हटाने की मांग उठ रही थी। इस बीच इस कानून को 6 महीने का विस्तार दिये जाने की वजह से राज्य में एक बार इसका विरोध शुरू हो सकता है। केंद्र सरकार ने पूरे नगालैंड को ‘डिस्टर्ब एरिया’ घोषित किया है। सरकार की तरफ से कहा गया है कि नगालैंड इतनी अशांत, खतरनाक स्थिति में है कि नागरिक प्रशासन की मदद के लिए सशस्त्र बलों का इस्तेमाल आवश्यक है।

इस कानून के तहत सेना पांच या इससे ज़्यादा लोगों को एक जगह इक्ट्ठा होने से रोक सकती है। इसके तहत सेना को चेतावनी देकर गोली मारने का भी अधिकार है। ये कानून सेना को बिना वारंट के किसी को भी गिरफ्तार करने की ताकत देता है। इसके तहत सेना किसी के घर में बिना वारंट के घुसकर तलाशी ले सकती है। गोली चलाने के लिए किसी के भी आदेश का इंतजार नहीं करना और अगर उस गोली से किसी की मौत होती है तो सैनिक पर हत्या का मुकदमा भी नहीं चलाया जा सकता है। अगर राज्य सरकार या पुलिस प्रशासन, किसी सैनिक या सेना की टुकड़ी के खिलाफ एफआईआर दर्ज करती है तो कोर्ट में उसके अभियोग के लिए केंद्र सरकार की इजाजत जरूरी होती है।

Read Also:  नीट में जमा दस्तावेज व्हाट्सएप पर भेजा, मेडिकल में एडमिशन के नाम पर 50 लाख की ठगी

CM ने की थी AFSPA हटाने की मांग

हालांकि, अभी कुछ दिनों पहले नगालैंड के मोन जिले में सुरक्षा बलों द्वारा की गई गोलीबारी में कई लोगों की हुई मौत के बाद इस कानून को हटाने की मांग उठी थी। नगालैंड के कई मानवाधिकार संगठन और यहां तक कि खुद राज्य सरकार ने भी इस कानून को हटाने की मांग की थी। मुख्यमंत्री नेफियू रियो ने इस घटना की उच्चस्तरीय जांच कराए जाने का वादा किया था और समाज के सभी वर्गों से शांति बनाए रखने की अपील की थी। मुख्यमंत्री नेफियू रियो ने कहा था, ”हम केंद्र सरकार से नागालैंड से अफस्पा हटाने की मांग कर रहे हैं। इस कानून ने देश की छवि खराब की है। मैंने केंद्रीय गृह मंत्री से बात की है, वह मामले को बहुत गंभीरता से ले रहे हैं।”

Read Also:  धनतेरस: आपकी सुविधा के लिए ट्राफिक में बदलाव, जानिए-कहां होगा वन वे और कहां नही चलेंगी सिटी बस

हालांकि, इससे पहले भी कई बार सुरक्षा बलों पर इस कानून का दुरुपयोग करने का आरोप लग चुका है। ये आरोप फर्जी एनकाउंटर, यौन उत्पीड़न आदि के मामले को लेकर लगे हैं। यह कानून मानवाधिकारों का उल्लंघन करता है।

कई मौतों ने कर सबको कर दिया था सन्न

बता दें कि इसी महीने 4 दिसंबर को मोन जिले के ओटिंग गांव में एक ऑपरेशन के दौरान सुरक्षाबलों ने एक पिक-अप वैन पर फायरिंग कर दी थी, जिसमें काम से लौट रहे 13 आम नागरिकों की मौत हो गई थी। इसके बाद एक अन्य गांव वाले की मौत प्रदर्शन के दौरान हुई फायरिंग में हो गई थी। उस वक्त सुरक्षा बलों ने माना था कि यह फायरिंग गलतफहमी में हुई थी। एक जवान समेत कुल 15 लोगों की मौत ने यहां लोगों को झकझोर कर रख दिया था।

अमित शाह ने कही थी यह बात

उस वक्त केंद्रीय गृह मंत्री मंत्री अमित शाह ने भी घटना पर दुख जताया था और कहा था कि नगालैंड के ओटिंग में एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना से व्यथित हूं। जिन लोगों ने अपनी जान गंवाई है, उनके परिवारों के प्रति मैं अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं। राज्य सरकार द्वारा गठित एक उच्च स्तरीय एसआईटी इस घटना की गहन जांच करेगी ताकि शोक संतप्त परिवारों को न्याय सुनिश्चित किया जा सके।

Read Also:  Dev Uthani Ekadashi 2021: देवउठनी एकादशी कब है? जानिए देव थान कैसे रखे जाते हैं और व्रत में क्या खाना चाहिए

Write To Get Paid

Biography

Related posts:

बिना हाथ-पैर के शख्स का वीडियो देखकर अचंभित रह गए आनंद महिंद्रा, दिया नौकरी का ऑफर
काम के बदले गेहूं, भुखमरी और बेरोजगारी से लड़ने के लिए तालिबान की नई स्कीम
कार खरीदने का है प्लान? जानें कैसे कम कर सकेंगे इंश्योरेंस की लागत 
ममता बनर्जी की तारीफ के बाद स्वामी ने मोदी सरकार को बताया- फेल, पेश किया रिपोर्ट कार्ड
PPF या सुकन्या समृद्धि योजना? जानें कहां मिलेगा सबसे बेहतर रिटर्न
12 दिन बाद बदल जाएगा इन राशियों का भाग्य, दुख- दर्द होंगे दूर, करेंगे नई शुरुआत
IND vs NZ 1st Test LIVE: चौथे दिन का खेल शुरू, मयंक अग्रवाल और चेतेश्वर पुजारा पर बड़ी जिम्मेदारी
क्वॉड की अगली बैठक में चीन की 'दुखती रग' पर होगी चर्चा, भारत भी है सदस्य; जानें कहां होगी मीटिंग
पेट्रोल-डीजल के नए रेट जारी, घर से निकलने के पहले चेक करें दाम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *