न्यू ईयर 2022 में कर्मचारियों को हफ्ते में तीन दिन छुट्टी, घटेगी टेक होम सैलरी, बढ़ेगा PF और 12 घंटे करना पड़ेगा काम

Spread the love


New Labour Codes: देश में नया श्रम कानून अप्रैल 2022 यानी नए वित्त वर्ष से लागू हो सकता है। समाचार एजेंसी PTI ने वित्त मंत्रालय से जुड़े सीनियर अधिकारी के हवाले से इसकी पुष्टि की है। इससे कर्मचारियों की सैलरी से लेकर उनकी छुट्टियां और काम के घंटे भी बदल जाएंगे। इसके मुताबिक हफ्ते में चार दिन काम और तीन दिन छुट्टी होगी। इसमें काम के घंटे आठ की बजाय 12 हो जाएंगे। हालांकि, श्रम मंत्रालय ने यह भी स्पष्ट कर दिया है कि हफ्ते में 48 घंटे कामकाज का नियम ही लागू रहेगा।

पहले ये श्रम कानून 2021 में लागू होने थे। क्योंकि यह विषय केन्द्र और राज्य दोनों के दायरे में है। ऐसे में इसे जमीन पर उतारने के लिए राज्य और केन्द्र दोनों को लागू करना होगा। अभी कई ऐसे राज्य हैं जो इसपर ड्राॅफ्ट अभी तैयार कर रहे हैं।

क्या है कानून में 

इसमें यह सुविधा भी होगी कि जहां आठ घंटे काम कराया जाएगा वहां एक दिन छुट्टी होगी। एक वरिष्ठ अधिकारी ने जानकारी देते हुए कहा कि कम से कम 13 राज्यों ने इन कानूनों के मसौदा नियमों को तैयार कर लिया है। बता दें नई श्रंम सहिता में कई ऐसे प्रावधान हैं, जिससे ऑफिस में काम करने वाले वेतनभोगी कर्मचारियों से लेकर मिलों और फैक्ट्रियों में काम कर वाले मजदूरों तक पर असर पड़ेगा।

Read Also:  शराब पीने वालों को CM नीतीश की खरी-खरी, बोले-दारू पीना है तो मत आइए बिहार 

केंद्र ने दिया अंतिम रूप

मजदूरी, सामाजिक सुरक्षा, औद्योगिक संबंध और व्यवसाय सुरक्षा तथा स्वास्थ्य और काम करने की स्थिति पर चार श्रम संहिताओं को अगले वित्त वर्ष तक लागू किए जाने की संभावना है। केंद्र ने इन संहिताओं के तहत नियमों को अंतिम रूप दे दिया है और अब राज्यों को अपनी ओर से नियम बनाने हैं, क्योंकि श्रम समवर्ती सूची का विषय है। अधिकारी ने कहा कि चार श्रम संहिताओं के अगले वित्त वर्ष तक लागू होने की संभावना है।

कंगाल कर देगा UPI पेमेंट! अगर आप भी कर रहे हैं ये 5 गलतियां; पढ़ें और सतर्क रहें

उन्होंने कहा, बड़ी संख्या में राज्यों ने इनके मसौदा नियमों को अंतिम रूप दे दिया है। केंद्र ने फरवरी 2021 में इन संहिताओं के मसौदा नियमों को अंतिम रूप देने की प्रक्रिया पूरी कर ली थी, लेकिन चूंकि श्रम एक समवर्ती विषय है, इसलिए केंद्र चाहता है कि राज्य भी इसे एक साथ लागू करें। 

केंद्रीय श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव ने इस सप्ताह की शुरुआत में राज्यसभा में एक सवाल के जवाब में बताया था कि व्यावसायिक सुरक्षा, स्वास्थ्य और काम करने की स्थिति पर श्रम संहिता के मसौदा नियमों को कम से कम 13 राज्य तैयार कर चुके हैं। इसके अलावा 24 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने मजदूरी पर श्रम संहिता के मसौदा नियमों को तैयार किया है। औद्योगिक संबंध संहिता के मसौदा नियमों को 20 राज्यों ने और सामाजिक सुरक्षा संहिता के मसौदा नियमों को 18 राज्यों ने तैयार कर लिया है।

Read Also:  क्रिमिनल रिकॉर्ड वाला कैंडिडेट उतारा तो अखबार में देनी होगी जानकारी, बताना होगा कैसे सही है फैसला

हाथ में वेतन कम पीएफ ज्यादा मिलेगा

विशेषज्ञों का कहना है कि नए कानून से कर्मचारियों के मूल वेतन (बेसिक) और भविष्य निधि (पीएफ)की गणना के तरीके में बड़ा बदलाव आएगा। इससे एक तरफ कर्मचारियों के पीएफ खाते में हर महीने का योगदान बढ़ जाएगा लेकिन हाथ में आने वाला वेतन (टेक होम) घट जाएगा। नई श्रम संहिता में भत्तों को 50 फीसदी पर सीमित रखा गया है। इससे कर्मचारियों के कुल वेतन का 50 फीसदी मूल वेतन हो जाएगा।

पीएफ की गणना मूल वेतन के फीसदी के आधार पर की जाती है जिसमें मूल वेतन और महंगाई भत्ता शामिल रहता है। ऐसे में अगर किसी कर्मचारी वेतन 50 हजार रुपये प्रति माह है तो उसका मूल वेतन 25 हजार रुपये हो जाएगा और बाकी के 25 हजार रुपये में भत्ते शामिल होंगे। मूल वेतन बढ़ने से कर्मचारी की ओर से पीएफ ज्यादा कटेगा और कंपनी का अंशदान भी बढ़ेगा।

Read Also:  IPL 2021 DC Vs SRH: शिखर धवन ने आईपीएल में लगातार छठे साल किया ये कारनामा, कोहली- रोहित को पीछे छोड़ा

Write To Get Paid

Biography

Related posts:

आज सिंह और कुंभ समेत इन राशि वालों का सूर्य की तरह चमकेगा भाग्य, पढ़ें 13 अक्टूबर का राशिफल
एक SMS के जरिये करवायें SBI कार्ड को ब्लाॅक, ये है पूरा प्रोसेस 
Bihar Panchayat Chunav Ninth Phase Counting Live Updates: लगातार आ रहे नतीजे, कई सीटों पर उलटफेर, जा...
राजामौली ने की 'ब्रह्मास्त्र' से 'बाहुबली' की तुलना, जानें क्या है RRR निर्देशक का रणबीर- आलिया की फ...
Top gainer stocks: सितंबर में इन 5 स्टॉक ने बदली निवेशकों की किस्मत, जबरदस्त हुआ मुनाफा
आंख में दिक्कत हुई तो जांच कराई, डॉक्टर बोले- ब्रेन में हो रही गड़बड़ी
जज मौत मामला: सीबीआई ने झारखंड हाईकोर्ट से कहा- आटो ड्राइवर ने जानबूझकर मारी टक्कर
झारखंड: विधानसभा के शीतकालीन में हंगामे की तैयारी, स्पीकर की सर्वदलीय बैठक से विपक्ष ने किया किनारा
12 दिन बाद बदल जाएगा इन राशियों का भाग्य, दुख- दर्द होंगे दूर, करेंगे नई शुरुआत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *