जज मौत मामला: सीबीआई ने झारखंड हाईकोर्ट से कहा- आटो ड्राइवर ने जानबूझकर मारी टक्कर

Spread the love

धनबाद के जज उत्तम आनंद के मामले में सीबीआई ने झारखंड उच्च न्यायालय को बताया कि ऑटो ड्राइवर ने जानबूझकर जज को टक्कर मारी थी। सुनवाई के दौरान सीबीआई के ज्वाइंट डायरेक्टर ने कहा की सीबीआई हर एंगल पर जांच करेगी। जांच जारी है और कोई भी एंगल नही छोड़ा जाएगा। इसके बाद कोर्ट ने अगले सप्ताह प्रगति रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया।

एजेंसी ने कहा कि विश्लेषण और अपराध स्थल के रिकंस्ट्रक्शन, सीसीटीवी फुटेज की जांच और उपलब्ध फोरेंसिक सबूतों से पता चलता है कि उत्तम आनंद की जानबूझकर दो लोगों ने निशाना बनाकर हत्या कर दी। सीबीआई ने यह बात झारखंड उच्च न्यायालय को पूछताछ पर अपडेट प्रदान करने के दौरान बताई।

एजेंसी ने कहा कि हत्या की जांच अंतिम चरण में है। सीबीआई ने कहा कि वह अब इस मामले की उपलब्ध भौतिक साक्ष्यों के साथ फोरेंसिक रिपोर्ट के जरिए पुष्टि कर रही है। सीबीआई ने सबूतों का अध्ययन करने के लिए देश भर से चार अलग-अलग फोरेंसिक टीमों को लगाया है। सीबीआई को कहना है कि जांच पूरी होने के करीब है।

Read Also:  Bihar Panchayat Chunav Second Phase Voting: दूसरे चरण का मतदान संपन्न, भोजपुर में वोटर की हार्ट अटैक से मौत

सूत्रों ने बताया कि एजेंसी गुजरात में दोनों आरोपियों की ब्रेन मैपिंग और लाई डिटेक्टर टेस्ट की रिपोर्ट का भी अध्ययन कर रही है। घटना के अगले दिन दोनों आरोपियों लखन वर्मा और राहुल वर्मा को गिरफ्तार कर लिया गया था। वहीं ऑटोरिक्शा एक महिला के नाम पर पंजीकृत है।

सीबीआई के सूत्रों ने बताया कि अगस्त में एजेंसी ने कई महत्वपूर्ण सबूत खोजे। इसमें यह तथ्य भी शामिल है कि आरोपी ने अपराध करने से पहले कॉल्स करने के लिए रेलवे ठेकेदार के चोरी के दो मोबाइल फोन का इस्तेमाल किया था। 28 जुलाई को 49 साल के जज उत्तम आनंद की ऑटो से टक्कर लगने के बाद मौत हो गई थी।

Read Also:  Petrol Price Today: राहत भरा शनिवार, पेट्रोल-डीजल की कीमतों में नहीं हुआ कोई बदलाव, चेक करें अपने शहर का रेट

सीबीआई की कार्रवाई से हाईकोर्ट संतुष्ट नहीं, जोनल डायरेक्टर को किया तलब

इससे पहले जज उत्तम आनंद की मौत के मामले की अब तक हुई जांच और कार्रवाई से हाईकोर्ट संतुष्ट नहीं था। अदालत ने 23 सितंबर को CBI के जोनल डायरेक्टर को कोर्ट में हाजिर होने का आदेश दिया था। चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन और जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की अदालत ने मामले की सुनवाई के दौरान कहा था कि सीबीआई हर सप्ताह प्रगति रिपोर्ट दे रही है, लेकिन उसमें कुछ भी नया नहीं है। हर बार स्टीरियो टाइप रिपोर्ट दायर कर रही है। यह संतोषजनक नहीं है। जुडिशल ऑफिसर की हत्या हुई है। हमें रिजल्ट चाहिए।

Related posts:

लखीमपुर कांड: पहले दी थी सुधारने की धमकी, फिर किसानों को कुचला, अजय मिश्रा पर बरसे राहुल गांधी
Navratri 2021: तृतीया-चतुर्थी तिथि एक, मां की डोली की सवारी देती है प्राकृतिक आपदाओं का संकेत
एक ही दिन में पेट्रोल 4 रुपये और डीजल 8.82 रुपये महंगा, पाकिस्तान में अब डीजल 122 के पार
नफीसा अली ने शेयर कीं लकी अली की बेटी सारा की खूबसूरत फोटोज, लोग बोले- गाती भी है?
निर्मला सीतारमण ने हावर्ड के छात्रों से कहा- निंदनीय है लखीमपुर हिंसा, PM नहीं करते किसी आरोपी की रक...
Petrol Price Today: राहत भरा शनिवार, पेट्रोल-डीजल की कीमतों में नहीं हुआ कोई बदलाव, चेक करें अपने शह...
सीएम हेमंत सोरेन ने किया पीएसए प्लांट का  उद्घाटन भाजपा सांसद संजय सेठ ने जताया विरोध
Bihar Panchayat Chunav Second Phase Voting: दूसरे चरण का मतदान संपन्न, भोजपुर में वोटर की हार्ट अटैक...
मुजफ्फरपुर: दो नई रेल लाइन के लिए जल्द होगा सर्वे, जानिए- कौन सी हैं दो नई लाइन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *