कोरोना जांचः चार सौ लोग मोबाइल मैसेज में थे निगेटिव, रिपोर्ट में निकले पॉजिटिव, समझिए- क्या हुई लापरवाही

Spread the love


कोरोना की आरटीपीसीआर जांच करा रहे कई लोग रिपोर्ट को लेकर असमंजस की स्थिति में रह रहे हैं। जांच रिपोर्ट का इंतजार कर रहे लोगों के मोबाइल पर मैसेज निगेटिव का आ रहा है लेकिन जब वे दिए गए लिंक पर प्रमाणपत्र अपलोड कर रहे हैं तो उसमें उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव दिख रही है।

यह मामला तब पकड़ में आया, जब कुछ लोगों ने इसकी शिकायत कंट्रोल रूम में दर्ज कराई। छानबीन करने पर पता चला कि रविवार को करीब 400 मामले में यह गड़बड़ी है। हालांकि अधिकारियों का कहना है कि यह सॉफ्टवेयर की गड़बड़ी से हुआ होगा, इसकी जांच चल रही है।

बुद्धा कॉलोनी के राघव, कंकड़बाग के जितेंद्र, बुद्ध मार्ग के संजय सिंह ने जिला स्वास्थ्य समिति के लैब टेक्नीशियन के माध्यम से जांच कराई थी। रविवार की देर रात मोबाइल पर उनकी रिपोर्ट निगेटिव रहने की सूचना मिली। साथ ही संजीवन एप पर रिपोर्ट डाउनलोड करने के लिए लिंक और ओटीपी भेजा गया। सोमवार को जब उनकी रिपोर्ट को दिए गए लिंक पर अपलोड किया गया तो सभी पॉजिटिव बताए गए। राघव ने कहा कि अब किस रिपोर्ट पर विश्वास किया जाए।

Read Also:  शुक्र का आज धनु राशि में गोचर, कन्या और मकर समेत इन राशि वालों को करियर में मिलेगा जबरदस्त लाभ

कहते हैं अधिकारी

आरटी पीसीआर की रिपोर्ट काफी लंबित पड़ी हुई थी तथा रिपोर्ट का एक्सल शीट्स बनाने एवं मैसेज करने में मानवीय भूल हुई है। अगले 24 घंटे में सभी रिपोर्ट सुधार दिए जाएंगे तथा जिसके पास पीडीएफ भेजा गया है वही सही है।  -डॉ चंद्रशेखर सिंह डीएम पटना

प्रमाणपत्र को ही सही मानें : सिविल सर्जन

इस विषय में पूछे जाने पर सिविल सर्जन डॉ. विभा सिंह ने बताया कि अपलोड करने पर जो रिपोर्ट आई है वही सही है। वह ऑटो जेनेरेटेड रिपोर्ट है जो सीधे आरएमआरआई या जांच केंद्रों से अपलोड होता है। मैसेज भेजने में मानवीय भूल हो सकती हे लेकिन रिपोर्ट लैब से सीधे ऑनलाइन जेनेरेट हो जाता है।

Read Also:  निक जोनस का मजाक उड़ाने के बाद प्रियंका चोपड़ा ने पति संग शेयर की रोमांटिक तस्वीर, कही ये बात

कई रिपोर्ट में सीटी वैल्यू का जिक्र नहीं

रविवार को कोरोना वायरस की जांच रिपोर्ट आने पर कई ऐसे मरीज थे, जिनका सिटी वैल्यू का जिक्र नहीं था। ऐसे में लोग हैरान हैं कि बीमारी की पुष्टि होने के बाद उसकी गंभीरता का पता नहीं चल पा रहा है, जबकि सामान्य तौर पर आरटीपीसीआर रिपोर्ट में इसका जिक्र होता है। राजा बाजार विजय नगर के मनीष कुमार ने जब यह सवाल राज्य स्वास्थ्य समिति के कंट्रोल रूम के कर्मचारी से पूछा तो उसने इसकी जानकारी वरीय अधिकारियों को देने की बात कह फोन रख दिया। ऐसी शिकायत कई लोगों ने दर्ज करायी है।

 

Write To Get Paid

Biography

Related posts:

झारखंड: टीकाकरण की रफ्तार पर पर्व-त्योहारों का ब्रेक, तीन लाख का लक्ष्य के विरुद्ध डेढ़ लाख भी नहीं ...
ताइवान के रक्षा मंत्री की चीन को दो टूक, कहा- हम अपना बचाव करने को तैयार
आरोपों से घिरे तो आठवले की चौखट पर पहुंची वानखेड़े फैमिली; मलिक से बोले मंत्री- साजिश करना बंद कीजिए
सामंथा रूथ प्रभु को ट्रोल ने कहा- सेकेंड हैंड आइटम, एक्ट्रेस के जवाब के बाद डिलीट किया ट्वीट
लखीमपुर कांड: पहले दी थी सुधारने की धमकी, फिर किसानों को कुचला, अजय मिश्रा पर बरसे राहुल गांधी
सावधान! रांची में कोरोना जांच के नाम पर यात्रियों को लूटने वाले गिरोह सक्रिय, पुलिस ने 3 को दबोचा
अब पाकिस्तान को ही आंख दिखाने लगा तालिबान, डुरंड लाइन पर बाड़बंदी से रोका; सेना को भी खदेड़ा
Campus Placement 2021: एक्सएलआरआई के विद्यार्थियों को 15.24 लाख का औसत पैकेज
आंख में दिक्कत हुई तो जांच कराई, डॉक्टर बोले- ब्रेन में हो रही गड़बड़ी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *