उपहार अग्निकांड : सबूतों से छेड़छाड़ मामले में अंसल बंधुओं को 7 साल की जेल, 2.25 करोड़ रुपये लगाया जुर्माना

Spread the love


Uphaar Fire Tragedy : दिल्ली की एक अदालत ने 1997 के उपहार अग्निकांड केस के महत्वपूर्ण सबूतों से छेड़छाड़ के मामले में सोमवार को फैसला सुनाते हुए व्यवसायी सुशील अंसल और गोपाल अंसल और अन्य को सात साल जेल की सजा सुनाई है। इसके साथ ही कोर्ट ने दोनों अंसल बंधुओं पर 2.25 करोड़-2.25 करोड़ रुपये का जुर्माना भी लगाया है।

जानकारी के अनुसार, पटियाला हाउस कोर्ट स्थित मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट पंकज शर्मा की अदालत ने आज उपहार अग्निकांड के सबूतों से छेड़छाड़ मामले में दोषी ठहराए गए सुशील और गोपाल अंसल को सात साल की जेल की सजा सुनाई। कोर्ट ने सुशील और गोपाल अंसल पर 2.25 करोड़-2.25 करोड़ रुपये का जुर्माना भी लगाया है और उन्हें हिरासत में लेने का भी आदेश दिया है। इनके अलावा, कोर्ट के एक पूर्व कर्मचारी दिनेश चंद शर्मा और 2 अन्य पीपी बत्रा और अनूप सिंह को भी 7 साल की जेल की सजा सुनाई गई है और इन तीनों पर तीन-तीन लाख रुपये का जुर्माना लगाया है।

Read Also:  कन्हैया के रवैये से परेशान CPI, बने रहने को मांगा अध्यक्ष पद और टिकट बांटने का अधिकार

जज ने अपने फैसले में कहा है कि कई रात सोचने के बाद अदालत इस नतीजे पर पहुंची है कि पांचों दोषी सख्त सजा के हकदार हैं। इस मामले में फैसला सुनाए जाने के बाद जमानत पर बाहर चल रहे पांचों दोषियों को हिरासत में ले लिया गया।

बता दें कि अदालत ने उपहार अग्निकांड घटना के महत्वपूर्ण सबूतों के साथ छेड़छाड़ के मामले में बीते महीने 8 अक्टूबर को कारोबारी सुशील और गोपाल अंसल को उनके दो कर्मचारियों सहित अन्य को दोषी ठहराया था। मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट पंकज शर्मा ने इस मामले में अदालत के एक पूर्व कर्मचारी दिनेश चंद शर्मा और अन्य व्यक्तियों पी.पी. बत्रा और अनूप सिंह को भी दोषी ठहराया था। 

हादसे में 59 लोगों की जान गई थी, जिसमें अंसल बंधुओं को दोषी ठहराया गया था और सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें 2 साल की जेल की सजा सुनाई थी। हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें जेल में बिताए समय को ध्यान में रखते हुए इस शर्त पर रिहा कर दिया था कि दोनों को राजधानी दिल्ली में एक ट्रॉमा सेंटर के निर्माण के लिए 30-30 करोड़ रुपये जुर्माने के तौर पर देने होंगे। सुनवाई के दौरान दो अन्य आरोपियों हर स्वरूप पंवार और धर्मवीर मल्होत्रा ​​की मौत हो गई।

Read Also:  दिल्ली में पेपर प्लेट फैक्ट्री में लगी आग, धमाके के बाद इमारत गिरी, 4 दमकल कर्मियों घायल

गौरतलब है कि दिल्ली के ग्रीन पार्क इलाके में स्थित उपहार सिनेमा में 13 जून 1997 को बॉर्डर फिल्म के प्रदर्शन के दौरान भीषण आग लग गई थी, जिसमें 59 लोगों की मौत हो गई थी। इस हादसे में सौ से ज्यादा लोग गंभीर रुप से जख्मी हुए थे। उपहार पीड़ित संघ की तरफ से अदालत द्वारा सुनाए गए फैसले का स्वागत किया गया है। संघ ने फैसले पर संतोष जताया है।  

Related posts:

रांची टी20: मैच देखने के लिए 15 से शुरू होगी टिकटों की बिक्री, टिकट दर घोषित, जानिए- क्या है दर और क...
21 साल बाद, सदी के 21वें साल में 21 वर्षीय हरनाज़ ने जीता मिस यूनिवर्स का ताज
लखीमपुर कांड: पहले दी थी सुधारने की धमकी, फिर किसानों को कुचला, अजय मिश्रा पर बरसे राहुल गांधी
PM नरेेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक तो हुई है... सुप्रीम कोर्ट ने जांच के लिए पूर्व जज की अध्यक्षता ...
21 नवंबर से वृश्चिक राशि में बुध-सूर्य बना रहे बुधादित्य योग, इन राशि वालों को होगा महालाभ
पाकिस्तान के पूर्व जज का वीडियो लीक, इमरान खान बोले- यह पनामा पेपर्स लीक से बचने का शरीफ परिवार का न...
बिना हाथ-पैर के शख्स का वीडियो देखकर अचंभित रह गए आनंद महिंद्रा, दिया नौकरी का ऑफर
शाहरुख खान के बर्थडे पर मलाइका अरोड़ा ने लुटाया प्यार, खास तस्वीरें शेयर कर दी जन्मदिन की बधाई
झारखंड: लंबा हुआ इंतजार, बिजली संकट दूर करने के लिए रेलवे ने स्पेशल ट्रेनों को दिखाया रेड सिग्नल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *