अब जम्मू-कश्मीर से कांग्रेस को झटका: पूर्व मंत्रियों, विधायकों ने सोनिया को भेजा सामूहिक इस्तीफा, अनसुनी का आरोप

Spread the love


कई राज्यों में उठापटक का सामना कर रही कांग्रेस को अब जम्मू कश्मीर में बड़ा झटका है। प्रदेश में कांग्रेस के पूर्व 4 मंत्रियों और तीन मौजूदा विधायकों ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को सामूहिक इस्तीफा भेजा है। इन नेताओं ने यह आरोप लगाते हुए इस्तीफा दे दिया है कि पार्टी की राज्य में स्थिति खराब है और उस पर बात करने के लिए लीडरशिप की ओर से समय नहीं दिया जा रहा है। सूत्रों ने कहा कि जिन विधायकों और पूर्व मंत्रियों ने पार्टी से इस्तीफा दिया है, वे जी-23 में शामिल नेता गुलाम नबी आजाद के करीबी हैं। गुलाम नबी आजाद कई बार कांग्रेस में अध्यक्ष के चुनाव और अन्य सुधार के लिए आवाज उठाते रहे हैं।

सूत्रों के मुताबिक इन नेताओं ने इस्तीफे का लेटर सोनिया गांधी के अलावा राहुल गांधी और जम्मू कश्मीर प्रभारी रजनी पाटिल को भी भेजा है। इन नेताओं ने लीडरशिप पर पक्षपातपूर्ण रवैया अपनाने का आरोप लगाया है। इस्तीफा देने वाले नेताओं ने जम्मू कश्मीर के प्रदेश अध्यक्ष जीए मीर पर भी निशाना साधा है। गुलाम अहमद मीर पर सीधा निशाना साधते हुए नेताओं ने कहा कि उनकी वजह से ही जम्मू-कश्मीर में आज पार्टी की हालत खराब है। बागी नेताओं ने कहा मीर के कमजोर नेतृत्व के चलते अब तक जम्मू-कश्मीर में कांग्रेस के 200 नेता पार्टी से पलायन कर चुके हैं।

Read Also:  अफगान को भुखमरी से बचाना चाहता है भारत, मगर गेहूं भेजने को पाक नहीं दे रहा रास्ता, इमरान को मना पाएगा तालिबान?

राहुल गांधी ने भी नहीं दिया बात करने का टाइम

हालांकि गुलाम नबी आजाद के ही करीबी नेता और पूर्व डिप्टी सीएम ताराचंद ने पूरे घटनाक्रम से दूरी बना ली है। इस्तीफा देने वाले नेताओं का कहना है कि उनकी ओर से कई बार राज्य में पैदा हुई समस्याओं पर बात करने के लिए शीर्ष नेतृत्व को संदेश दिया गया, लेकिन कोई जवाब ही नहीं मिला। नेताओं ने कहा कि उनकी ओर से करीब एक साल से लीडरशिप से मुलाकात के लिए वक्त की मांग की जा रही थी, लेकिन टाइम ही नहीं दिया गया। यही नहीं नेताओं ने कहा कि अगस्त में राहुल गांधी जब आए थे, तब भी उनसे मिलने का वक्त मांगा गया था, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला।

कुछ नेताओं ने पार्टी को कश्मीर में बना लिया है बंधक

गुलाम अहमद मीर पर गुस्सा निकालते हुए नेताओं ने कहा कि उनकी लीडरशिप में केंद्र शासित प्रदेश में स्थिति खराब हो गई है। नेताओं ने कहा कि कुछ लोगों ने जम्मू-कश्मीर में पार्टी को हाईजैक कर लिया है। नेताओं ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में किसी भी वक्त विधानसभा के चुनाव हो सकते हैं और पार्टी हाईकमान यहां की समस्याओं पर ध्यान देने के लिए तैयार ही नहीं है। सूत्रों ने कहा कि कांग्रेस हाईकमान का कहना है कि किसी भी समस्या के लिए पार्टी फोरम पर ही बात की जाएगी, लेकिन मीडिया में प्रचार को स्वीकार नहीं किया जाएगा।

Read Also:  UPSC IAS Exam : क्या हिंदी मीडियम वालों को मिलते हैं कम नंबर, जानें यूपीएससी टॉपर का जवाब

Write To Get Paid

Related posts:

पाकिस्तान के पूर्व जज का वीडियो लीक, इमरान खान बोले- यह पनामा पेपर्स लीक से बचने का शरीफ परिवार का न...
PM नरेेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक तो हुई है... सुप्रीम कोर्ट ने जांच के लिए पूर्व जज की अध्यक्षता ...
तैयारी : सीटीईटी प्रश्नपत्र समय से डाउनलोड करने को सीबीएसई ने बनाई इंजीनियरों की टीम
Omicron के बढ़ते संक्रमण को नहीं रोक सकते, केरल के कोविड एक्सपर्ट कमेटी के डॉक्टर ने खड़े किये हाथ
अफगान को भुखमरी से बचाना चाहता है भारत, मगर गेहूं भेजने को पाक नहीं दे रहा रास्ता, इमरान को मना पाएग...
विकी कौशल और कटरीना कैफ की शादी में आएंगे 120 लोग, मोबाइल के साथ ही ड्रोन्स भी होंगे बैन, गेस्ट के ल...
शाहरुख खान के बर्थडे पर मलाइका अरोड़ा ने लुटाया प्यार, खास तस्वीरें शेयर कर दी जन्मदिन की बधाई
आने वाले 29 दिनों तक इन राशियों का खूब चमकेगा भाग्य, सूर्य देव की रहेगी विशेष कृपा
Antim: आयुष शर्मा और महिमा का रोमांटिक गाना Hone Laga Song रिलीज, देखें वीडियो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *